Buying two wheels and 4 wheeler vehicles can be expensive

दो पहिया तथा 4 पहिया वाहन खरीदना हो सकता है महंगा
दो पहिया तथा 4 पहिया वाहन खरीदना हो सकता है महंगा
दो पहिया तथा 4 पहिया वाहन खरीदना हो सकता है महंगा

भारत के बिहार राज्य में गवर्नमेंट सरकार ने बिहार में वाहनों के एक्स शोरूम मूल्य के आधार पर लगने वाले पंजीकरण शुल्क को बढ़ा दिया है जिसका असर बिहार में दो तथा चार पहिया वाहन की खरीदारी पर सीधा पड़ा है बिहार में पंजीकरण शुल्क बढ़ाए जाने की वजह से दो तथा चार पहिया वाहन खरीदना महंगा हो जायेगा चल रहे एक मीटिंग के दौरान बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश की अध्यक्षता में मंत्रिमण्डल सचिवालय के मुख्यमंत्री अरुण कुमार सिंह ने इसकी जानकारी दी तथा उन्होंने यह भी बताया कि गवर्नमेंट सरकार द्वारा एक्स-शोरूम मूल्य पर लगने वाले टैक्स को लगभग 1 से 5% तक बढ़ा दिया गया है यह बढ़ोतरी जुलाई 2018 में लागु हो गया था |

इस तरह लगेगा टैक्स

गवर्नमेंट सरकार के द्वारा लगाए गए निर्णय के अनुसार 1 लाख रुपए तक की मोटरसाइकिल तथा टैक्सी ,मोटर कैब ,मक्सी कैब पर वहां के एक्स शोरूम का 8%, 15 लाख रुपए के मूल्य मैं बिकने वाले गाड़ियों पर एक्स -शोरूम का 12% की दर से 15 साल के लिए होगा, 15 लाख रुपए के मूल्य के गाड़ियों पर 10% तथा ₹100000 से लेकर 8 लाख तक बिकने वाली गाड़ियोंपर 9% होगा |

चौकीदारों का भत्ता बढ़ा



बिहार के मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह ने बताया कि मंत्री परिषद ने चौकीदारों के वर्दी भत्ता को प्रतिवर्ष ₹3000 से बढ़ाकर ₹5000 किए जाने का फैसला कर दिया है तथा अरुण कुमार सिंह ने यह भी बताया कि मंत्री परिषद ने किसानों को सलाह देने वाले सलाहकारों को योजना के लिए वित्त साल 2018 -19 में लगभग 94.5 करोड रुपए की योजना के लिए स्वीकृति प्रदान की सिफारिश कर दी है |

अरुण कुमार सिंह ने यह भी बताया कि सन 2018 19 में राज्य योजना मद के अंतर्गत आने वाले निर्माण में लगने वाले खर्चा को 13.50 करो रुपए की तकनीक अनुमोदित प्राक्कलन की शासन द्वारा स्वीकृति प्रदान कर दी है |

बिहार सरकार द्वारा लगाया गया या नियम दो पहिया गाड़ी तथा चार पहिया गाड़ियों के विक्रय में काफी कम ही देखने को मिल बिहार राज्य के खास खबर आम आदमी को इसका असर बहुत ज्यादा पड़ेगा अलग-अलग दरों पर अलग-अलग टेक्स शुल्क लगाने की वजह से गाड़ियों का खरीदना महंगा हो सकता है |






Previous
Next Post »