गेंदा फूल की खेती करके किसानो की आर्थिक स्थिति में हो रही सुधार

नमस्कार दोस्तों आज हम बात करने जा रहे है फूलों की खेती के बारे में दोस्तों आप सब तो जानते ही है की हमारा भारत एक कृषि प्रधान देश है हमरे देश में सभी प्रकार के फसलों की खेती की जाती है हमारा देश कई वर्षों से नई -नई तकनीक का उपयोग करके बहुत अच्छी खेती कर रहे है तो दोस्तों जैसा की आप जानते है की जमाना बदल रहा है और इस बदलाव को देखते हुए किसानो को भी बदलना बहुत जरुरी है तो दोस्तों जो भी किसान भाई लोग खेती करते है उनके लिए बहुत ही अच्छी बात है की वो लोग अन्य फसलों के अलावा गेंदा फूल की खेती जरूर करें | 

गेंदा फूल की खेती
गेंदा फूल की खेती करके किसानो की आर्थिक स्थिति में हो रही सुधार



दोस्तों आज डेकोरेशन का जमाना चल रहा है जैसा की आप जानते है की किसी भी धार्मिक त्यौहार या किसी भी शुभ अवसर पर सजावट के लिए फूलों का महत्त्व दिनों - दिन बढ़ता जा रहा है जैसे की शादियों में, किसी नेता के आगमन में,दिवाली की अवसर पर और कई शुभ मौकों पर फूलों का  डेकोरेशन बहुत तेजी से बढ़ता जा रहा है इसलिए यदि आप फूलों की खेती से लाभ लेना चाहते हैं तो दिवाली के अवसर पर या जब आप के यहाँ शादियों का सीजन चल रहा हो उस समय यदि आप फूलों के माला बनाकर अपने नजदीकी फूल मंडियों में ले जाते है तो आप बहुत है अच्छी आमदनी पा सकते है | 

आज हम आपको ऐसे ही कुछ गावों के बारे में बताने जा रहे है जहाँ के किसान आज सब्जियों की खेती छोड़कर केवल गेंदे के फुल की खेती कर रहे है यहाँ तक की अनाज की भी खेती करना बंद कर दिए है | 

उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले में बैरवन,रामगांव,बेलवां बड़ेपुर,नयेपुर,रमईपुर,चुप्पेपुर हे सब फूलों की खेती में प्रसिद्ध गांव है जहाँ पर आपको हर महीने फुलों की खेती देखने को मिलेगी | 



यहाँ के किसान दिवाली के अवसर पर बहुत ही अधिक मुनाफा कमा कमा लेते है दिवाली के  त्यौहार पर फूलों की मांग इतनी बढ़ जाती है की यदि यहाँ के किसान कभी कभी फूलों की मांग पूरा नहीं कर पते है और उस समय फूलों की कीमत एक माला 30 से 60 रूपये की होती है यदि कितना भी मार्किट डाउन होता है तो 10 रुपये का एक माला से कम नहीं आता है  सन 2018 की बात करें तो 10 रूपये से लेकर 20 रुपये तक के रेट चल रहे थे और एक किसान लगभग 500 से 900 माला मंडियों में प्रतिदिन लेकर जाते थे दिवाली का त्यौहार आने के 4 दिन पहले से दिवाली के तीन दिन बाद तक फुल बहुत महंगे होते है | 

यहाँ के किसान के मुताबिक यदि आप 5 बिस्वा सब्जियों की खेती करते है तो आप बहुत मेहनत करेंगे तो एक सप्ताह में 2 कुंतल सब्जी तोड़ेंगे जबकि यदि आप 5 बिस्वा फूलों की  खेती करते है तो आप  400 से 700 माला बना सकते है और आपको यह बता दें की 100 माला 1 कुंतल सब्जी के बराबर होता है इस हिसाब से 4 से 7 कुन्तल पैदावार हो रही है आपको फूलों की खेती से और फूलों की खेती में मेहनत बहुत कम लगते है 



यदि आपको इसके बारे में अधिक जनकसी चाहिए तो हमारी वेबसाइट www.sunilkp.com पर जाकर contact us में अपना नाम,Email और मैसेज दे सकते है आपकी पूरी सहायता की जाएगी | 


Previous
Next Post »