National Fisheries Development Board

Fisheries - हैलो दोस्तों आज हम आपको मछली पालन के बारे नें बताने जा रहे हैं यदि आप मछली पालन के बारे मे जानना चाहते हैं तो हम आपको यहाँ पर मछली पालन के बारे में पूरी जानकारी देंगे इस पोस्ट की मदद से आपको इसके बारे मैं पूरी जानकारी विस्तार से दिया जाएगा |

यदि देखा जाय तो आज के समय बहुत से किसान सब्जियों की खेती बंद करके मछली पालन का ब्यावसाय करना शुरू कर दिये हैं सब्जियों की खेती में उनको बहुत सी दिक्कतों का सामना करना पड़ता था जैसे की दवा का छिड़काव करना, मंडियो में ले जाने की दिक्कतें,जंगली पशुओं से जैसे नीलगाय से दिक्कतें जैसे बहुत सी परेशानियाँ होती है | 

National Fisheries Development Board
National Fisheries Development Board

और सबसे दिक्कत तब होती है जब फसल अच्छी हो और प्रकृतिक आपदा जैसे तूफान तथा तेज बारिश होने की स्थिति में पूरा खेती चौपट हो जाता है इसलिए यदि देखा जाय तो मछली पालन का ब्यावसाय बहुत आसानी से किया जा सकता है| 

मछली पालन के लाभ


यदि किसान मछली पालन का ब्यावसाय करना चाहते हैं तो बता दें की इस ब्यावसाय का सबसे अच्छा लाभ यह है की मछली पालन का व्यवसाय शुरू करने के लिए खर्चा बहुत कम आता है शुरुआत में आपको कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है लेकिन धीरे-धीरे जानकारियाँ मिलती जाएंगी | 

यदि आप मछली पालन लोकल क्षेत्र में कराते है तो आपको इसकी सेलिग करने के लिए कहीं जाने की जरूरत नहीं है ब्यापारी आपसे खुद संपर्क करेंगे | 

मछली पालन करने से आपको किसी भी प्रकार के प्रकृतिक आपदा से नुकसान होने की संभावना नहीं होती है जबकि सब्जियों की खेती करने से बहुत नुकसान होता है | 

छोटे किसान ऐसे करें मछली पालन


यदि आप एक किसान है और आप सब्जियों की खेती करते रहे है और आप मछली पालन करना चाहते हैं तो बहुत अच्छी बात है यदि देखा जाय तो कोई भी किसान अब अपने आप में बदलाव लाना चाहता है और यह अच्छी बात है तो हम आपको बता दें की यदि आप छोटे किसान है तो आपके पास जमीन तो जरूर होगा तो सबसे पहले आप अपनी आवश्यकता अनुसार अपने खेतों में लगभग दो छोटे-छोटे तालाब की खुदाई कर दें इससे आपको यह फायदा होगा की एक तालाब में आपके माल तैयार हो रहे होंगे तथा दूसरी तालाब में आप माल को बेच रहे होंगे जिससे आपको हमेशा आमदनी होती रहेगी | 

Fisheries Development Board
Fisheries Development Board

और यदि आप मछली पालन बड़े पैमाने पर करना चाहते हैं तो आपके पास अधिक जमीन भी होनी चाहिए लेकिन हम आपसे ये बता दें की यदि  आप नए हैं और मछली पालन का ब्यवसाय करना चाहते हैं तो सबसे पहले आप थोड़े से शुरुआत करें | 

मछलियों की प्रजाति

यदि मछली पालन की बात आती है तो ये भी जानना जरूरी है की मछलियों की अलग-अलग प्रजातियाँ भी होती हैं "टूना, ग्रास, कटला, रोहू" मछलियों की प्रमुख प्रजातियाँ है जो उपयोग में लायी जाती है लेकिन आप अपने लोकल क्षेत्र में मछली पालन करना चाहते हैं तो आपके लिए रोहू और ग्रास बहुत अच्छा होगा ये प्रजातियाँ आपको आसानी से सस्ते दरों पर मिल जाती है |

ध्यान रखने योग्य बातें 

जिस प्रकार खेती करने वाले किसान कोई भी फसल लगाने के लिए खाद,बीज,खेत की तैयारी करते है उसी प्रकार मछलियों के लिए भी इन चीजों की आवश्यकता होती है | 

मछलियों के बीज तालाब में डालने से पहले इस बात का ध्यान रहना चाहिए की तालाब में पर्याप्त मात्रा में पानी है या नहीं | 

Fisheries
Fisheries

मछलियों को स्वस्थ रखने तथा अच्छी उपज लेने के लिए प्रति हेक्टयेर दर से एक महीने में लगभग 8 से 10 कुंतल गोबर की खाद, 25 से 35 किलो सुपर फास्फेट और 15 से 20 किलो यूरिया का प्रयोग करना चाहिए | 

यदि तालाब में मछली को भोजन की कमी हो रही हो तो उस स्थिति में चांवल की भूसी जिसमें चावल की कुछ मात्र हो तालाब में दाल देना चाहिए | 

मछली पालन के लिए तालाब का निर्माण ऐसे स्थान पर करें जहां पर्याप्त मात्र में धूप और हवा आसानी से मिल सके | 

तालाब में पानी की कमी होने पर तुरंत पानी की व्यवस्था करनी चाहिए तथा यदि हो सके तो तालाब के ऊपर जाल फैला दें ताकि बहुत से पक्षी ऐसे होते हैं जो  मछलियों को लेकर उड़ जाते हैं उनसे बचा जा सके | 
Previous
Next Post »