vasant panchami | vasant panchami in hindi

"vasant panchami" - सभी त्यौहार की तरह वसंत पंचमी भी भारतीय त्योहारों में से एक है बाकि त्योहारों की तरह vasant panchami भी श्रद्धा के साथ मनाया जाता है बहुत से लोगों का मानना होता है की vasant panchami के दिन स्नान करके पिले वस्त्र पहनने चाहिए। 

Vasant Panchami

"वसंत पंचमी" का त्यौहार आते ही लोगों में खुशियों की लहर सी आ जाती है चूँकि vasant panchami के दिन "सरस्वती" जी का पूजा होता है इसलिए जितने भी नाटककार,लेखक,गायक,कवि,नृत्यकार और बहुत से लोग होते हैं यह दिन "सरस्वती" के जन्मदिन के रूप में मनाते हैं। 


vasant panchami
vasant panchami

vasant panchami का त्यौहार माघ महीने के शुक्ल पछ की पंचमी को आरम्भ हो जाता है और vasant के महीने में जितने भी पेड़-पौधे होते हैं उनके सभी पुराने पत्ते झड़ जाते हैं और फिर से नए पत्ते का आगमन होता है। 

vasant panchami को saraswati puja के नाम से भी जाना जाता है वसंत पंचमी के दिन बहुत से लोग सुबह नहा धोकर सरस्वती जी की पूजा अर्चना करते हैं "vasant panchami" के दिन "saraswati puja" पूजा का दौरान गांव में रहने वाले किसान अपने नए अनाजों में घी तथा गुड़ मिलाकर अग्नि में पितृ-तर्पण करते हैं।

12 महीनों में "vasant" का महीना सबसे अच्छा माना जाता है यह मौसम सभी मौसमों से एकदम अलग होता है "vasant" के मौसम में मानव के साथ-साथ पशु-पछियों में भी खुशी की लहर देखने को मिलती है।

 Saraswati Pooja


सरस्वती पूजा 2019 फरवरी के महीने में 10 फरवरी 2019 दिन रविवार को मनाया जायेगा vasant panchami के दिन कोई भी शुभ कार्य करना बहुत ही कुशल मंगल माना जाता है। 

 Saraswati Pooja
 Saraswati Pooja

गावों में सरस्वती पूजा के दौरान यहाँ के लोग आज ही के दिन शाम के समय "रेड़ का पेड़" गाड़ते हैं और इस पेड़ को होलीका के समय जलाते हैं "vasant panchami" के दिन शाम के समय "रेड़ का पेड़" लेकर भगवान का जयकार करते हुए मस्ती के साथ ग्रुप में गाड़ने के लिए जाते हैं। 

सरस्वती वंदना
य कुन्देंदु तुषार हर धवला, ये शुभ्रास्त्रव्रत |
यं वीणवरदण्डमन्दिता - कर, यं श्वेता - पद्मासना ||
यं ब्रह्मच्युत शंकरा - प्रब्रीतिभि देवै सदा वन्दिता |
सा मा पातु सरस्वती भगवती, निहेश-जडापहा ||






Previous
Next Post »