होली | Holi Kab Hai होली मनाने की अलग-अलग परम्पराएँ

होली - हैलो दोस्तों आज हम आपको भारतीय त्योहारों में सबसे महत्वपूर्ण होली के त्योहार के बारे में बताने जा रहे हैं हम आपको यह भी बताएँगे की 2019 में होली का शुभ मुहूर्त कब है । 

होली का त्योहार हमारे देश में बहुत ही धूम-धाम से मनाया जाता है होली का यह त्योहार आने से लगभग 1 महीने पहले ही इसकी चर्चा लोगों में शुरू हो जाती है होली का यह त्योहार रंगों का त्योहार होता है इस त्योहार के पहले होलिका दहन किया जाता है उसके बाद दूसरे दिन रंग-बिरंगे रंगों द्वारा होली होली खेला जाता है ।


Holi Kab Hai
Holi Kab Hai

इस वर्ष 2019 में होलिका त्योहार 21 मार्च को पड़ रहा है और उससे पहले 20 मार्च को होलिका दहन किया क्येगा ।

होलिका दहन का शुभ मुहूर्त


इस वर्ष होलिका दहन 20 मार्च दिन बुधवार को किया जाएगा इस वर्ष होलिका दहन का शुभ मुहूर्त 20 मार्च 2019 रात्रि 9 के बाद है ।

यदि होलीका दहन की बात की जाय तो भारत के प्रत्येक राज्य की होलिका दहन करने की अलग-अलग परम्पराएँ होती है यदि गुजरात की बात की जाय तो वहाँ होलिका दहन का दौरान नारियल, चना, सिमदाना डालते है और होलिका दहन के बाद उस दाने को प्रसाद के रूप में उपयोग करते हैं ।

होलिका दहन
होलिका दहन

यदि उत्तर प्रदेश की बात की जाय तो यहाँ के लोग होलिका दहन वाले दिन शाम के समय सरसों का उबटन अपने शरीर में लगाकर अपने शरीर के मेल को इकट्ठा करके होलिका में फेंक देते हैं यहाँ के लोगों की यह रीति रिवाज है की ऐसा करने से जीवन में सुख समृद्धि आती है ।

यदि उत्तर प्रदेश की होलिका दहन की बात किया जाय तो यहाँ पर बहुत बड़ी होलिका बनाकर 5 लोग होलिका के चरो ओर भगवान का जैकार करते हुये 5 फेरे लगाकर होलिका में आग लगते हैं ।

रंग खेलना


इस वर्ष रंगों का यह त्योहार 21 मार्च 2019 दिन गुरुवार को पड़ रहा होली के रंगों का यह त्योहार बहुत ही मनोरंजन से भरपूर होता है ।

होली के दिन सभी लोग सारे गम भूलकर डीजे बजते हुये बहुत से लोग ग्रुप में रंग खेलते हुये होली का यह त्योहार मनाते हैं होली खेलने के दौरान सभी लोग मिलकर अपने दोस्तों को खोजकर दौड़ाकर रंग लगाते हैं ।

Holi
Holi

होली खेलने के बाद नहाने के बाद नए कपड़े पहनकर सभी लोग गुलाल लेकर गाँव के सभी बुजुर्गों को गुलाल का चन्दन लगाकर चरणश्परस करके आशीर्वाद लेते हैं

होली खेलने के बाद गाँव की एक यह परंपरा चली आ रही है की शाम के समय बुजुर्गों द्वारा बिरहा का आयोजन किया जाता है इस दौरान गाँव के सभी लोग इकट्ठा होकर इस प्रोग्राम का आनंद लेते हैं ऐसा कहा जाता है की होली का यह त्योहार बुराई पर अच्छाई की जीत के लिए मनाई जाती है ।


 होली मनाने की अलग-अलग परम्पराएँ
 होली मनाने की अलग-अलग परम्पराएँ

बहुत से स्थानो पर इस त्योहार के दौरान रात में इस त्योहार को और मनोरंजन दायक बनाने के लिए डांस का आयोजन किया जाता है जिसमे एक से बढ़कर एक कलाकार शामिल होते हैं तथा इस दौरान अच्छे कलाकार को इनाम भी दिया जाता है ।
डांस का आयोजन
डांस का आयोजन

Previous
Next Post »